Blog

blog

आईवीएफ उपचार के बारे में मिथक

आईवीएफ उपचार के बारे में मिथक

मातृपितृत्व की यात्रा सभी दंपति के लिए बहुत ही भावनात्मक होती है। प्रत्येक दंपति के लिए मातृपितृत्व प्राप्त करने का मार्ग अलग-अलग होता है। जब दंपति प्राकृतिक रूप से गर्भ धारण करने में असमर्थ होते हैं, तो फर्टिलिटी उपचार उनकी मदद कर सकते हैं। आईवीएफ (इनविट्रो फर्टिलाइजेशन) एक ऐसा उन्नत फर्टिलिटी उपचार है जो माता-पिता बनने में दंपति की सहायता कर सकता है। लेकिन कई लोग आईवीएफ उपचार की प्रक्रिया को नहीं समझते हैं और उन्हें डर और गलतफहमियां होती हैं। आईवीएफ करवाने से पहले, दंपति को आईवीएफ प्रक्रिया और आईवीएफ उपचार को प्रभावित करने वाले कारकों के बारे में पता होना चाहिए। आइए आईवीएफ उपचार के बारे में आम मिथकों पर एक नज़र डालें।

1. मिथक:

आईवीएफ की सफलता का महिलाओं की आयु से कोई संबंध नहीं है।.

तथ्य:

आईवीएफ की सफलता हर आयु में एक जैसी नहीं होती है। महिलाओं की आयु  बढ़ने के साथ प्रजनन क्षमता कम हो जाती है और इसलिए आईवीएफ की सफलता दर भी कम हो जाती है।

2. मिथक:

आईवीएफ का परिणाम हमेशा इक साथ तीन या चार बच्चो का जन्म है।

तथ्य:

पहले, 2 या 3 भ्रूणों का उपयोग प्रत्यारोपण के लिए किया जाता था जिसके परिणामस्वरूप जुड़वाँ, तीन या चार बच्चे होते थे। आजकल, पीजीटी, ईआरए और अन्य तकनीकों जैसी उन्नत तकनीकों के कारण, केवल एक स्वस्थ भ्रूण को प्रत्यारोपित किया जाता है, जिससे कई गर्भधारण को रोका जा सकता है।

3. मिथक:

प्रजनन संबंधी समस्याओं वाले सभी दंपति को आईवीएफ उपचार की आवश्यकता होती है।

तथ्य:

स्थिति और गंभीरता के आधार पर, गर्भधारण में दंपति की सहायता करने के लिए समयबद्ध संभोग के साथ ओव्यूलेशन इंडक्शन, आईयूआई, और अन्य उपचार जैसे फर्टिलिटी उपचार की एक विस्तृत श्रृंखला है। इसलिए सभी दंपति को आईवीएफ कराने की जरूरत नहीं है।

4. मिथक:

पुरुष धूम्रपान का आईवीएफ की सफलता दर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

तथ्य:

पुरुष धूम्रपान से आईवीएफ की सफलता दर में कमी आती है और गर्भपात भी हो सकता है।

5. मिथक:

आईवीएफ 100% सफल है।

तथ्य:

आईवीएफ उपचार की सफलता में कई कारक शामिल हैं। आईवीएफ के मामले में सफलता दर 50-70% है।

6. मिथक:

आईवीएफ से पैदा हुए बच्चों में असामान्यताएं होती हैं।.

तथ्य:

इस गलतफहमी के कारण कई लोग आईवीएफ से डरते हैं। आईवीएफ बच्चे उतने ही सामान्य होते हैं जितने कि प्राकृतिक गर्भाधान से पैदा हुए बच्चे।

7. मिथक:

आईवीएफ प्रक्रिया करवाने के लिए अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है।

तथ्य:

आईवीएफ उपचार एक डेकेयर प्रक्रिया है। एक बार प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद, व्यक्ति घर जा सकता है। अस्पताल में भर्ती होने की कोई आवश्यकता नहीं है।

दंपतियों को एक निश्चित आयु के बाद मातृपितृत्व में देरी नहीं करनी चाहिए। यदि करियर की आकांक्षाएं और अन्य प्रतिबद्धताएं आपको गर्भावस्था पर विराम लगवाती हैं, तो बेहतर होगा कि आप अंडे, शुक्राणु या भ्रूण फ्रीजिंग का विकल्प लें सकते है, जिन्हें बाद में आपकी सुविधा के अनुसार गर्भ धारण करने के लिए उपयोग किया जा सकता है। जीवनशैली में बदलाव और पीसीओएस, एंडोमेट्रियोसिस, कम शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि के साथ, बिना किसी देरी के सही समय पर फर्टिलिटी उपचार की तलाश करना बुद्धिमानी है।

Write a Comment