Blog

blog

एंडोमेट्रियोसिस के बारे में आप जो कुछ जानना चाहते हैं

एंडोमेट्रियोसिस के बारे में आप जो कुछ जानना चाहते हैं

एंडोमेट्रियोसिस के बारे में आप जो कुछ जानना चाहते हैं:

कई महिलाओं को उनके मासिकधर्म से जुड़ी समस्या होती है। लेकिन वे इस बात से अनजान हैं कि अनियमित मासिकधर्म, भारी रक्तस्राव या गंभीर  दर्द से वन्ध्यत्व हो सकता है। एंडोमेट्रियोसिस एक ऐसी स्थिति है जिसका पता नहीं चलता लेकिन यह महिलाओं की प्रजनन क्षमता को काफी हद तक प्रभावित कर सकता है। आइए एंडोमेट्रियोसिस के बारे में विस्तारपूर्वक जानते हैं। 

एंडोमेट्रियोसिस क्या है:

एंडोमेट्रियोसिस के बारे में जानने के लिए, सबसे पहले हम मासिक धर्म चक्र के बारे में जान लेते हैं और महिलाओं को मासिकधर्म चक्र की स्पष्ट समझ होनी चाहिए। गर्भाशय की आंतरिक परत को एंडोमेट्रियम कहा जाता है जो हर महीने निषेचित अंडे को धारण करने हेतु खुद को तैयार करता है। लेकिन यदि गर्भावस्था नहीं होती है, तो मासिक धर्म चक्र के दौरान हर महीने एंडोमेट्रियल ऊतक अलग किया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप रक्तस्राव होता है। जब एंडोमेट्रियम गर्भाशय के बाहर कहीं भी फैलोपियन ट्यूब, अंडाशय, योनि आदि में बढ़ता है, तो इसे एंडोमेट्रियोसिस कहा जाता है। यह ऊतक भी अलग किया जाता है लेकिन रक्त में जाने के लिए कोई जगह नहीं होती है जिससे सूजन होती है जिसके परिणामस्वरूप क्षतिग्रस्त कोशिका और घाव हो जाते हैं।

एंडोमेट्रियोसिस के लक्षण क्या हैं?

  • पुराना श्रोणि दर्द / पीठ के निचले हिस्से में दर्द
  • पीड़ादायक माहवारी (कष्टार्तव)
  • गर्भधारण करने में कठिनाई (वन्ध्यत्व)
  • संभोग के दौरान दर्द (डिस्पेरुनिया)
  • माहवारी के दौरान अत्यधिक रक्तस्राव
  • पीड़ादायक चक्रीय रक्तमेह/पीड़ादायक शौच (डिस्चेजिया)

एंडोमेट्रियोसिस का निदान:

  1. अल्ट्रासाउंड
  2. गहरे स्थित एंडोमेट्रियोसिस की पहचान करने के लिए शायद ही कभी एमआरआई स्कैन की आवश्यकता हो सकती है।
  3. लैप्रोस्कोपी और बायोप्सी – एंडोमेट्रियोटिक घाव की लैप्रोस्कोपी और बायोप्सी एंडोमेट्रियोसिस के निदान में स्वर्ण मानक है। एंडोमेट्रियम का एक नमूना ऊतक माइक्रोस्कोप के नीचे देखा जाता है (लैप्रोस्कोपी के दौरान) जो विशेषज्ञ को यह पुष्टि करने में मदद करता है कि क्या रोगी को एंडोमेट्रियोसिस है।

एंडोमेट्रियोसिस का उपचार:

  • प्राथमिकता के रूप में वन्ध्यत्व के उपचार की आवश्यकता है जो रोगी के अंडे के भंडार के आधार पर या तो आईयूआई या आईवीएफ हो सकता है।
  • यदि परिवार पूरा हो गया है तो जन्म नियंत्रण गोली, हार्मोन थेरेपी और सर्जरी को दर्द / अन्य लक्षणों से राहत के विकल्प के रूप में माना जा सकता है।

हार्मोन थेरेपी:

हार्मोन थेरेपी द्वारा, ओव्यूलेशन को रोका जा सकता है जो एंडोमेट्रियम के विकास को भी धीमा कर सकता है। 

  • सर्जरी:

प्रभावित ऊतकों को लैप्रोस्कोपिक सर्जरी द्वारा हटाया जा सकता है। कुछ मामलों में, हिस्टेरेक्टॉमी किया जाता है जिसमें गर्भाशय और अंडाशय को निकाल दिया जाता है।

जीवनशैली में बदलाव द्वारा एंडोमेट्रियोसिस का प्रबंधन:

स्वस्थ भोजन खाएं:

फल, सब्जियां और ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन एंडोमेट्रियोसिस के विकास के जोखिम को कम कर सकता है। शराब, कैफीन और ट्रांस फैट से बचना चाहिए। 

व्यायाम:

नियमित व्यायाम एंडोमेट्रियोसिस के प्रबंधन में मदद कर सकता है। और साथ ही, योग और ध्यान तनाव पर काबू पाने में मदद कर सकते हैं जिससे आपको एंडोमेट्रियोसिस से निपटने में मदद मिलती है।

जब आपको अपने मासिक धर्म की समस्या हो, तो किसी फर्टिलिटी विशेषज्ञ से सलाह लेने में संकोच न करें। प्रारंभिक निदान और उपचार आपको वन्ध्यत्व की समस्याओं पर काबू पाने और अपने माता-पिता बनने के स्वप्न को पूरा करने में मदद कर सकता है।

Write a Comment