Blog

Uncategorized

एड्स आपको मातापिता बनने से वंचित नहीं कर सकता! प्रजनन उपचार एचआईवी दम्पति को माता-पिता बनने में सक्षम बना सकते हैं

एड्स आपको मातापिता बनने से वंचित नहीं कर सकता! प्रजनन उपचार एचआईवी दम्पति को माता-पिता बनने में सक्षम बना सकते हैं

श्री सुनील और श्रीमती दिव्या का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया जब नियमित जांच के दौरान उन्हें यह पता चला कि वे रेट्रोवायरल पॉजिटिव हैं। जैविक बच्चा पैदा करने का उनका सपना चूर-चूर हो गया क्योंकि कुछ डॉक्टरों ने उन्हें स्पर्म दाता या गोद लेने की सलाह दी थी। दंपति को ओएसिस फर्टिलिटी का दौरा करने पर नई आशा और आकांक्षा मिली और उन्हें उन्नत प्रजनन उपचार से माता-पिता बनने की संभावना के बारे में पता चला और उनके जैविक बच्चे का जन्म हुआ। यह एचआईवी रोगियों को उन्नत प्रजनन उपचार और एंटीरेट्रोवाइरल उपचारों तक पहुंच बनाने में सक्षम बनाने के महत्व पर जोर देता है जो जीवनसाथी और संतानों को एचआईवी के संचरण के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है। एड्स किसी दम्पति को माता-पिता बनने से नहीं रोक सकता। जागरूकता फैलाना महत्वपूर्ण है। ओएसिस फर्टिलिटी के पास एचआईवी दम्पति को वन्ध्यत्व से उबरने में मदद करने की विशेषज्ञता और अनुभव है और ऐसे कई दम्पति को माता-पिता बनने में मदद मिली है। गोपनीयता बनाए रखने के लिए दम्पति का नाम बदला गया हैं

एचआईवी महिलाओं की प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

एचआईवी महिलाओं को शारीरिक, जैविक, मनोवैज्ञानिक रूप से प्रभावित करता है और इसके परिणामस्वरूप वजन कम हो सकता है, लंबे समय तक एनोव्यूलेशन हो सकता है, और मासिक धर्म चक्र में भी अनियमितता हो सकती है। यह भी देखा गया है कि एचआईवी पॉजिटिव महिलाओं में श्रोणिशोथज रोग, ट्यूबल फैक्टर इनफर्टिलिटी आदि का खतरा अधिक होता है।

शर्म और गर्भधारण और बच्चे के स्वास्थ्य को लेकर डर के कारण तनाव भी इन महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है। उन्हें गर्भपात का भी अधिक खतरा होता है। लेकिन इन सब से किसी के परिवार बनाने के स्वप्न पर पूर्णविराम नहीं लग सकता।

एचआईवी पुरुषों की प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, एचआईवी पॉजिटिव पुरुष हाइपोगोनाडिज्म (जननग्रंथि अल्पक्रियता) विकसित करते हैं, और उनमें शुक्राणु सांद्रता, शुक्राणुओं की संख्या और गतिशीलता कम होती हैं। इसके अतिरिक्त, वे इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, कामेच्छा में कमी, ओलिगोस्पर्मिया और नपुंसकता का अनुभव करते हैं।

प्रजनन उपचार पर भरोसा:

सेरोडिस्कॉर्डेंट दम्पति:

एक दम्पति में, केवल जब पुरुष साथी एचआईवी से संक्रमित होता है, तो उसका उपचार एंटीरेट्रोवाइरल दवाओं से किया जाता है जिसके परिणामस्वरूप सीरम और वीर्य वायरल लोड कम हो जाता है। केवल जब पुरुष साथी में वायरल लोड का पता नहीं चल पाता है, तो दम्पति में एआरटी उपचार शुरू किया जाता है। महिला साथी को दिया जाने वाला प्री-एक्सपोज़र प्रोफिलैक्सिस (पीआरईपी) महिला साथी में संचरण के जोखिम को कम करता है। सेमिनल प्लाज्मा का डबल वाश, आईयूआई और आईसीएसआई के साथ आईवीएफ जैसे विशिष्ट प्रोटोकॉल पत्नी और बच्चे के मामले में सेरोकनवर्जन के जोखिम को कम करते हैं।

तथापि कई उपचार संभावनाएं उपलब्ध हैं जो एचआईवी दम्पति को जैविक बच्चे पाने की खुशी की भेंट दे सकती हैं, जागरूकता की कमी ने कई लोगों को निराश और दुखी कर दिया है।

एचआईवी दम्पति के मामले में पूर्व-गर्भाधान परामर्श महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे उन्हें परिवार बनाने की योजना बनाने से पहले जोखिमों, निवारक उपायों और उपचार के विकल्पों को समझने में मदद मिलती है।

आशा है! अपने माता-पिता के स्वप्न को मत छोड़िए। एड्स से लड़ें और मातापिता भी बनें!

Write a Comment

/%E0%A4%8F%E0%A4%A1%E0%A5%8D%E0%A4%B8-%E0%A4%86%E0%A4%AA%E0%A4%95%E0%A5%8B-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A4%BE%E0%A4%AA%E0%A4%BF%E0%A4%A4%E0%A4%BE-%E0%A4%AC%E0%A4%A8%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%B8/