Blog

Uncategorized

क्या सही आहार का सेवन पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं को गर्भवती होने में मदद करता है?

क्या सही आहार का सेवन पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं को गर्भवती होने में मदद करता है?

Author: Dr. Sai Manasa Darla, Consultant, Fertility Specialist & Laparoscopic Surgeon

पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) महिला वन्ध्यत्व का एक प्रचलित कारण है और एक चयापचय संबंधी विकार है जो प्रजनन आयु की लगभग 6% से 12% महिलाओं को प्रभावित करता है।

पीसीओएस की अभिव्यक्तियाँ केवल अंडाशय और मासिक धर्म तक ही सीमित नहीं हैं। अनियमित मासिक धर्म और ओवेरियन सिस्ट के साथ, पीसीओएस मोटापा, इंसुलिन प्रतिरोध, प्रजनन हार्मोन असंतुलन और हिर्सुटिज़्म (असामान्य बाल विकास) का भी कारण बनता है।

चिकित्सा उपचार के साथ-साथ, आहार संबंधी हस्तक्षेप पीसीओएस के लक्षणों को कम करने और गर्भावस्था की संभावनाओं को बढ़ाने में मदद करते हैं। कई अध्ययनों ने पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं की प्रजनन क्षमता में सुधार और जीवन की गुणवत्ता पर इसके प्रभाव को कम करने में आहार के महत्व का संकेत दिया है।

 

पीसीओएस को प्रबंधित करने और प्रजनन क्षमता में सुधार के लिए डाइट टिप्स

1. संपूर्ण खाद्य पदार्थों को प्राथमिकता दें

ऐसा भोजन चुनें जिसमें संपूर्ण खाद्य पदार्थ जैसे साबुत अनाज (गेहूं, ब्राउन राइस, आदि), ताजे फल और सब्जियां, स्वस्थ वसा जैसे एवोकैडो और नट्स, लीन मीट और पौधे-आधारित प्रोटीन (दाल और बीन्स) हों।

2. अपने कार्ब्स पर ध्यान दें

अपने कार्बोहाइड्रेट का सेवन सीमित करें। कार्बोहाइड्रेट इंसुलिन के स्तर को प्रभावित करते हैं, जिससे शर्करा का स्तर बढ़ता है और वजन बढ़ता है। रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट जैसे रिफाइंड आटा, वाइट ब्रेड और पास्ता, इंस्टेंट फ़ूड, चीनी, पिज्जा, ब्रेकफास्ट सिरिअल, तले हुए खाद्य पदार्थों से दूर रहें।

3. फाइबर का सेवन बढ़ाएँ

पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं में इंसुलिन प्रतिरोध विकसित हो सकता है और इससे रक्त शर्करा में वृद्धि हो सकती है। फाइबर का सेवन इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद

करता है और रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। फाइबर पाचन और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। अपने आहार में पर्याप्त मात्रा में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करें।

4. प्रोटीन जोड़ें

प्रोटीन शरीर में मांसपेशियों की मरम्मत और निर्माण के साथ-साथ इंसुलिन के स्तर को विनियमित करने और सूजन को कम करने में मदद करता है। फल, सब्जियां, नट्स, अंकुरित अनाज और फलियां जैसे पौधों-आधारित विकल्प चुनें जो पोषक तत्वों और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। मछली, अंडे, चिकन, पनीर और टोफू जैसे लीन प्रोटीन चुनें। लाल मांस से बचें।

5. एडेड शुगर दूर रहो

किसी भी मीठे पेय पदार्थ, प्रोसेस्ड खाद्यपदार्थ और डेसर्ट से दूर रहें। एडेड शुगर से वजन बढ़ता है, सूजन होती है और मोटापा बढ़ता है। इससे गर्भधारण करने में समस्या आती है। शहद और मेपल सिरप जैसे वैकल्पिक स्वीटनर का उपयोग करें।

6. ओमेगा-3 फैटी एसिड का अधिक सेवन करें

ओमेगा-3 फैटी एसिड सूजन को कम करता है। ओमेगा-3 फैटी एसिड के कुछ स्रोत अखरोट, तुकमलंगा, अलसी, जैतून का तेल और ट्यूना और सैल्मन जैसी मछली हैं।

7. पौधा-आधारित खाद्य पदार्थों का चयन करें

पौधा-आधारित खाद्य पदार्थ बेहतर इंसुलिन रेजिस्टेंस में मदद कर सकते हैं और पीसीओएस वाली महिलाओं में मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित कर सकते हैं।

8. पानी पीते रहें

समग्र स्वास्थ्य के लिए पानी कितना आवश्यक है, इस पर पर्याप्त जोर नहीं दिया जा सकता। हर दिन 8-10 गिलास पानी पीने की कोशिश करें। मीठे पेय पदार्थों से बचें।

9. सप्लीमेंट लेने पर विचार करें

स्वस्थ संतुलित भोजन करने के बावजूद, कभी-कभी सप्लीमेंट लेना अधिक फायदेमंद हो सकता है। कोई भी सप्लीमेंट लेने से पहले, दवा के परस्पर प्रभाव और दुष्प्रभावों से बचने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

10. कैफीन और अल्कोहल से बचें

अगर दिन की शुरुआत के लिए कॉफी पीना जरूरी है तो मध्यम मात्रा में कॉफी का सेवन करें। प्रतिदिन 1-2 कप कॉफ़ी का सेवन करें। डी-कैफीनयुक्त पेय पदार्थों को प्राथमिकता दें। शाम को सोने से पहले कॉफी से बचें।

यदि आप गर्भधारण की योजना बना रही हैं तो शराब से परहेज करें, क्योंकि यह हार्मोनल असंतुलन का कारण बनता है और प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है।

हालाँकि पीसीओएस का कोई इलाज नहीं है, एक स्वस्थ संतुलित डाइट प्लान पीसीओएस के प्रबंधन में मदद कर सकता है और आपके प्रजनन लक्ष्यों का समर्थन कर सकता है। हम क्या खाते हैं यह हमेशा एक विकल्प होता है। स्वस्थ विकल्प चुनें न कि प्रतिबंधात्मक। आप कभी-कभार स्वयं को खाने में ढील दे सकते हैं।

Write a Comment