Blog

Enquire Now
Uncategorized

आईवीएफ सफलता दर को समझना

आईवीएफ सफलता दर को समझना

Author: Dr D Maheswari, Consultant & Fertility Specialist, Oasis Fertility.

इन दिनों कई दम्पति देरी से माता-पिता बनने, जीवनशैली कारकों, मधुमेह, पीसीओएस और अन्य हार्मोनल मुद्दों के कारण आईवीएफ उपचार का सहारा लेते हैं। हालाँकि, सभी लोग आईवीएफ की सफलता दर और सफलता दर निर्धारित करने वाले कारकों को नहीं समझते हैं। इससे पहले कि कोई दंपत्ति आईवीएफ अपनाए, उनके लिए न केवल आईवीएफ प्रक्रिया के बारे में जानना जरूरी है, बल्कि प्रजनन क्लिनिक द्वारा दी जाने वाली सफलता दर के बारे में भी जानना जरूरी है। ऐसे कई कारक हैं जो अंडे और शुक्राणु की गुणवत्ता से लेकर, भ्रूण की गुणवत्ता, आईवीएफ प्रयोगशाला के मानक, चिकित्सक और भ्रूणविज्ञानी की विशेषज्ञता, दम्पति की जीवनशैली आदि तक सफलता दर को प्रभावित करते हैं। आइए हम आईवीएफ की सफलता दर में योगदान देने वाले प्रत्येक कारक को समझते हैं ।

इन विट्रो फर्टिलाइजेशन प्रक्रिया क्या है?

आईवीएफ/इन विट्रो फर्टिलाइजेशन एक सहायक प्रजनन तकनीक है जो उन दम्पति को बच्चा पैदा करने में मदद करती है जो पुरुष वन्ध्यत्व, एंडोमेट्रियोसिस, ट्यूबल ब्लॉकेज, कम एग रिज़र्व और कई अन्य प्रजनन समस्याओं जैसे विभिन्न कारणों से स्वाभाविक रूप से गर्भधारण करने में असमर्थ हैं। इस प्रक्रिया में, कुछ हार्मोनल इंजेक्शन के माध्यम से, अंडे को महिला साथी से लिया जाता है और पुरुष साथी के शुक्राणुओं के साथ जोड़ा जाता है जिसके परिणामस्वरूप भ्रूण का निर्माण होता है जिसे बाद में आगे की वृद्धि और विकास के लिए महिला के गर्भाशय में वापस डाल दिया जाता है।

आईवीएफ या तो ताजा भ्रूण स्थानांतरण या जमे हुए भ्रूण स्थानांतरण के रूप में किया जा सकता है। जब भ्रूण बनने के 3 या 5 दिनों के भीतर भ्रूण को महिला के गर्भाशय में स्थानांतरित किया जाता है, तो इसे ताजा भ्रूण स्थानांतरण कहा जाता है। जब भ्रूण को एक महीने या उसके बाद फ्रीज करके महिला के गर्भाशय में स्थानांतरित किया जाता है, तो इसे फ्रोजन भ्रूण स्थानांतरण कहा जाता है। ताजा भ्रूण स्थानांतरण की तुलना में फ्रोजन भ्रूण स्थानांतरण की सफलता दर बेहतर है।

एकल भ्रूण स्थानांतरण जैसी उन्नत प्रौद्योगिकियां, जिसमें केवल एक स्वस्थ भ्रूण का चयन किया जाता है और स्थानांतरित किया जाता है, आईवीएफ के माध्यम से केवल एक स्वस्थ बच्चे के सफल गर्भाधान और प्रसव को सक्षम बनाता है, जिससे माता और बच्चे दोनों के लिए कई गर्भधारण और संबंधित जटिलताओं का जोखिम और डर नहीं होता है। आईवीएफ के माध्यम से कई लाखो दम्पति को माता-पिता बनने का सुख मिला है।

आईवीएफ सफलता दर को प्रभावित करने वाले कारक:

1. महिला की आयु:

आईवीएफ की सफलता दर की भविष्यवाणी करने में महिला की आयु सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है क्योंकि महिलाओं की प्रजनन क्षमता 32 वर्ष के बाद कम हो जाती है और 37 के बाद तेजी से गिरावट देखी जाती है। उसाइटस की गुणवत्ता और मात्रा कम हो जाती है जिसके परिणामस्वरूप गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है और साथ ही बच्चे में जन्मजात विसंगतियाँ भी होती हैं। बड़ी आयु में माता बनने के कारण आईवीएफ के परिणाम भी नकारात्मक रूप से प्रभावित होते हैं, जिससे गर्भपात और प्रसूति संबंधी जोखिम होते हैं।

2. वन्ध्यत्व का कारण:

कई अध्ययनों से पता चला है कि वन्ध्यत्व का कारण भी आईवीएफ उपचार की सफलता का निर्धारण करने में प्रमुख भूमिका निभाता है।

3. महिलाओं का वजन:

अधिक वजन वाली/मोटापे से ग्रस्त महिलाओं में आईवीएफ उपचार प्रक्रिया के दौरान स्टिमुलेशन के प्रति खराब प्रतिक्रिया होती है और उनसे केवल कुछ उसाइटस (अंडे) ही प्राप्त किए जा सकते हैं। मोटापे के परिणामस्वरूप निषेचन दर कम हो सकती है और गर्भपात की दर अधिक हो सकती है। वजन घटाने से आईवीएफ परिणाम को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है।

4. अंडा, शुक्राणु और भ्रूण की गुणवत्ता:

सकारात्मक आईवीएफ परिणाम के लिए, युग्मकों यानी अंडाणु और शुक्राणु की गुणवत्ता, और अंडे और शुक्राणु के संलयन से बनने वाले भ्रूण की गुणवत्ता भी बहुत महत्वपूर्ण है। माइक्रोफ्लुइडिक्स जैसी उन्नत शुक्राणु चयन विधियां हैं जो आईवीएफ प्रक्रिया के लिए सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले शुक्राणु के चयन में मदद कर सकती हैं। अंडे की खराब गुणवत्ता सफलता दर को प्रभावित करेगी और कुछ मामलों में, आईवीएफ सफलता दर में सुधार के लिए दाता अंडे को प्राथमिकता दी जा सकती है।

35 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं या आनुवंशिक विकारों वाले दम्पति के मामले में पीजीटी (प्री-इम्प्लांटेशन जेनेटिक टेस्टिंग) जैसी उन्नत तकनीकों के उपयोग से स्थानांतरण के लिए सर्वोत्तम भ्रूण का चयन किया जा सकता है, जिससे गर्भपात का खतरा कम हो जाता है।

5. जीवनशैली कारक:

धूम्रपान, शराब का सेवन और जंक फूड का सेवन आईवीएफ परिणामों पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

6. एंडोमेट्रियल मोटाई और आईवीएफ सफलता दर:

एंडोमेट्रियम/गर्भाशय की परत की मोटाई एक सफल गर्भाधान में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। 7 mm से कम एंडोमेट्रियम प्रत्यारोपण और गर्भावस्था दर को कम कर सकता है।

भारत में आईवीएफ की सफलता दर क्या है?

आईवीएफ की सफलता दर हर दम्पति में अलग-अलग होती है क्योंकि आयु, बीएमआई, वन्ध्यत्व का कारण, जीवनशैली आदि हर व्यक्ति में अलग-अलग होता है। अत्याधुनिक आईवीएफ प्रयोगशालाओं, विशेषज्ञ फर्टिलिटी एक्सपर्ट और भ्रूणविज्ञानियों के कारण भारत में ओएसिस फर्टिलिटी में आईवीएफ की सफलता दर 69% है।

 

आयु के अनुसार आईवीएफ की सफलता दर:

आयु आईवीएफ उपचार प्रक्रिया के परिणाम पर नकारात्मक प्रभाव डालती है। ओएसिस फर्टिलिटी में, 30 वर्ष से कम आयु की महिलाओं के लिए, आईवीएफ की सफलता दर 60% से अधिक है जबकि 35 वर्ष से अधिक की महिलाओं के लिए, सफलता दर 50% है।

आईवीएफ उपचार प्रक्रिया शुरू करने से पहले जीवनशैली में बदलाव जो आवश्यक है:

– वज़न प्रबंधन:

वजन घटाने से आईवीएफ की सफलता दर में सुधार करने में मदद मिल सकती है। आईवीएफ लेने से पहले अपना बीएमआई जानें और वजन घटाने पर ध्यान देना शुरू करें।

– स्वस्थ आहार:

एक स्वस्थ आहार एक सफल गर्भधारण प्राप्त करने में काफी मदद कर सकता है।

– व्यायाम:

समग्र स्वास्थ्य में सुधार के लिए और बेहतर आईवीएफ सफलता दर में सहायता के लिए नियमित व्यायाम बहुत आवश्यक है।

– तनाव का प्रबंधन:

तनाव मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकता है और आईवीएफ परिणामों को भी ख़राब कर सकता है। एक बार जब आप आईवीएफ लेने का निर्णय ले लेते हैं, तो आपको शांत और तनाव मुक्त मन रखना होगा। चिंता, भय या अवसाद गर्भधारण की संभावना को कम कर सकता है।

मातापिता बनना एक अद्भुत यात्रा है चाहे वह प्राकृतिक तरीकों से हो या आईवीएफ के माध्यम से। आईवीएफ उपचार कराने से पहले इन विट्रो फर्टिलाइजेशन प्रक्रिया के बारे में स्पष्टता होना बहुत महत्वपूर्ण है। इतना ही नहीं बल्कि सकारात्मक मानसिकता और यथार्थवादी उम्मीदें रखने से आपको बिना किसी परेशानी के उपचार प्रक्रिया से गुजरने में मदद मिलेगी। चूंकि जब आईवीएफ की सफलता दर की बात आती है तो जीवनशैली के कारक गेम-चेंजर हो सकते हैं, इसलिए धूम्रपान छोड़ना, शराब का सेवन कम करना और स्वस्थ आहार को शामिल करके अपनी जीवनशैली में बदलाव करना बहुत महत्वपूर्ण है। मातापिता बनने की शुभकामनाएँ! अपनी चिंताओं को छोड़ें और आत्मविश्वास के साथ आईवीएफ करवाएं, अगर आपका डॉक्टर इसकी सिफारिश करता है!

Write a Comment